जिंदादिली जिंदाबाद

जिंदादिली जिंदाबाद   श्‍याम बिहारी श्‍यामल फीकी न होगी कभी भावनाओं की यह चांदनी खिली...  जज्‍बात को कहिए छोड़े न कभी अपन...
Read More

सब समय का सूर्य

दिनकर : सदा भास्‍वर सूर्य  श्‍याम बिहारी श्‍यामल हमारे साहित्‍य का वर्तमान कुछ विचित्र स्‍वनिर्मित अतार्किक वर्जनाओं का अजीब दौर ह...
Read More

कविता

अक्षय कंदील    वह तो हृदय प्रदेश का झरना... कौन रोके यह झरना-बहना... सांस-सांस में जिसके सवाल...  कैसे मिटाये निरूत्‍तर...
Read More
कवि का जन्‍मदिन   कवि ज्ञानेन्‍द्रपति से बतियाना समय समग्र से मुखातिब होना होता है। अब ( 01 जनवरी  2012 ) से कुछ देर पहले उन्‍हें जन्‍मद...
Read More