छांव धर झाइयों ने घर कर दिया

    ग़ज़ल          दहशतों ने   पास रह निडर कर दिया  गजब किया  बवंडरों ने घर भर दिया  दर्द ने दिया साथ क‍ि जगाए रखा  छांव...
Read More

कभी भी बात बिगड़ जाएगी

ग़ज़ल  श्‍याम बिहारी श्‍यामल   शक़-ओ-शुबहां न रख  जि़ंदगी   क़दम-क़दम न इम्तिहान ले  हम कद्रदां हैं तेरे आशिक़ नहीं, हक़ीक़त क...
Read More

कैसा आया है नया शाहजहां

           ग़ज़ल                    श्‍याम बिहारी श्‍यामल  रोशनी यह कैसी मुक़ाबिल यहाँ पलकें उठाना भी मुश्कि़ल यहाँ ज़मीं ...
Read More

चांद नदी में घुल रहा है

ग़ज़ल  श्‍याम बिहारी श्‍यामल  जल चांदनी में धुल रहा है  चांद नदी में घुल रहा है  सितारे अब आंखें मल रहे मन तो सबका झूल ...
Read More
ग़ज़ल  जो बटोरा है सब खोना है  इसी एक बात का रोना है खेल अलग-अलग चला  अब अंत एक-सा होना है   कब्‍ज़ा बहुत लंबा-चौड़ा है...
Read More
         चांदनी से सुना है यह चांदमहल है         श्‍याम बिहारी श्‍यामल ज़न्‍नत-ए-जां-ओ-ज़‍िगर साज़महल है  बेेेेशक़ यह नहीं मह...
Read More