कभी भी बात बिगड़ जाएगी

ग़ज़ल  श्‍याम बिहारी श्‍यामल   शक़-ओ-शुबहां न रख  जि़ंदगी   क़दम-क़दम न इम्तिहान ले  हम कद्रदां हैं तेरे आशिक़ नहीं, हक़ीक़त क...
Read More

कैसा आया है नया शाहजहां

           ग़ज़ल                    श्‍याम बिहारी श्‍यामल  रोशनी यह कैसी मुक़ाबिल यहाँ पलकें उठाना भी मुश्कि़ल यहाँ ज़मीं ...
Read More

चांद नदी में घुल रहा है

ग़ज़ल  श्‍याम बिहारी श्‍यामल  जल चांदनी में धुल रहा है  चांद नदी में घुल रहा है  सितारे अब आंखें मल रहे मन तो सबका झूल ...
Read More
ग़ज़ल  जो बटोरा है सब खोना है  इसी एक बात का रोना है खेल अलग-अलग चला  अब अंत एक-सा होना है   कब्‍ज़ा बहुत लंबा-चौड़ा है...
Read More
         चांदनी से सुना है यह चांदमहल है         श्‍याम बिहारी श्‍यामल ज़न्‍नत-ए-जां-ओ-ज़‍िगर साज़महल है  बेेेेशक़ यह नहीं मह...
Read More

कभी थके न रुके यायावर नामवर

      अथाहशत्रु नामवर     श्‍याम बिहारी श्‍यामल शब्‍दों की दुनिया में किताबों का घर उसमें रहते जो वह अक्षर नामवर  ...
Read More

बनारस-मय नामवर , नामवर-मय बनारस

काशी नगरी जिसने अपनी गोद में तुलसी-कबीर-रैदास से लेकर भारतेंदु-प्रेमचंद-प्रसाद-रामचंद्र शुक्‍ल और हजारी प्रसाद-नज़ीर बनारसी तक ...
Read More